धर्म

गौमाता की सेवा मात्र से दूर हो सकती हैं आपकी समस्याएं

हिंदू धर्म में गाय को माता का दर्जा दिया गया है और इसकी सेवा करने की बात कही गई है. मान्यता है कि गाय की सेवा मात्र से व्यक्ति के जीवन के तमाम संकटों का अंत हो सकता है.

उल्लेखनीय बाते श्री सीताराम संतसेवा गौशाला आश्रम समिति से संत राम भरोसे दास जी महाराज ने बताया।

उन्होंने बताया कि हिंदू धर्म में गाय को पूज्यनीय माना गया है. कहा जाता है कि बड़े से बड़े कष्ट सिर्फ गौमाता के पूजन से कट जाते हैं क्योंकि गाय में 33 कोटि देवी देवताओं का वास माना गया है. गाय की सेवा से सभी देवी देवता प्रसन्न होते हैं, साथ ही परिवार को सुख-समृद्धि  और अच्छे स्वास्थ्य का वरदान मिलता है. गाय की सेवा से कुंडली का कोई भी दोष दूर हो सकता है और पितृदोष आदि के कारण आने वाली बाधाओं से भी मुक्ति मिलती है. गौमाता की सेवा का जिक्र सिर्फ शास्त्रों में ही नहीं है, ​बल्कि द्वापरयुग में भगवान श्रीकृष्ण  ने भी गाय के प्रति अपना प्रेम प्र​दर्शित किया है और लोगों को गाय की सेवा करने का संदेश दिया है. यदि आपके जीवन में भी कई तरह की परेशानियां हैं।

तो गौमाता से जुड़े कुछ ऐसे उपाय जिनसे आपकी हर समस्या का समाधान हो सकता है.

  1. गौमाता की सेवा से हर समस्या का समाधान 

सुख समृद्धि के लिए

कहा जाता है कि गाय को खिलाई गई कोई भी चीज सीधे देवी देवताओं तक पहुंच जाती है. इसलिए शास्त्रों में पहली रोटी गाय के लिए निकालने की बात कही गई है. गाय के लिए पहली रोटी निकालने से आपके जीवन की तमाम समस्याएं कट जाती हैं और आपके परिवार में सुख समृद्धि का वास होता है.

 

बुध ग्रह के दुष्प्रभाव दूर करने के लिए

अगर आपकी कुंडली में बुध ग्रह कमजोर है, या आपको किसी कारण इसके दुष्प्रभाव झेलने पड़ रहे हैं, तो हर बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाना शुरू कर दें. ये बेहद शुभ होता है. इससे बुध से जुड़े दुष्प्रभाव दूर होंगे और आपको तमाम समस्याओं का हल मिल जाएगा.

शनि संबन्धी समस्याएं दूर करने के लिए

शनि से जुड़ी किसी भी परेशानी को दूर करने के लिए काले रंग की गाय की सेवा करें. इसके अलावा अगर संभव हो तो किसी ब्राह्मण को काले रंग की गाय दान कर दें. इससे आपकी तमाम समस्याओं का अंत हो जाएगा.

 

मंगल से जुड़ी परेशानी दूर करने के लिए

कुंडली में मंगल दोष है जिसके कारण आपके जीवन में कई तरह की परेशानियां हैं तो लाल रंग की गाय की सेवा करें. मंगलवार के दिन गाय का पूजन करें और उसे गुड़ चने आदि खिलाएं.

 

गुरु से जुड़ी परेशानी दूर करने के लिए

गुरु यानी बृहस्पति ग्रह अगर आपके पक्ष में न हो तो विवाह में विलंब होता है, शिक्षा में व्यवधान आता है, साथ ही कई अन्य परेशानियां होती हैं. ऐसे में आप हर बृहस्पतिवार के दिन गाय को हल्दी से तिलक करें. उसे एक आटे की लोई में गुड़ चने की दाल और चुटकी भर हल्दी डालकर खिलाएं.

पितृ दोष से मुक्ति के लिए

अगर आपकी कुंडली में पितृ दोष है तो जीवन में कोई काम आसानी से नहीं बनता और परिवार पर वि​पत्तियों का पहाड़ टूट पड़ता है. इस समस्या से बचने के लिए आप अमावस्या के दिन गाय को रोटी, गुड़, हरा चारा खिलाएं. अगर आप रोजाना गाय की सेवा कर सकें तो और भी बेहतर है. इससे पितृ दोष दूर होने के साथ अन्य ग्रह भी शांत होंगे.

महाराज जी ने लोगों को बधाईया देते हुए कहा कि ईश्वर उसके लिए हमेशा कृपा करता हैं जो गाय माता की सेवाओं में होता है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *